Monday, October 6, 2008

यहूदीवाढ के फ़ॉल त्यौहार

अपनी पिछली ब्लॉग ऐंट्री में मैंने लिखा कि मैं यहूदीवाढ के फ़ॉल त्यौहार के बारे में समझाऊँ | मैं यहाँ कोशिश करूंगी |

यहूदीवाढ के चार फ़ॉल त्यौहार 'रोश हशाना', 'योम किप्पुर', 'सिम्ख़्हात टोरह', और 'सूकोट' हैं | यहूदीवाढ का 'कैलेंडर' चंद्र है | दिन संध्या को शुरू करते हैं | सेप्टेम्बर २९ की रात से लेकर सेप्टेम्बर ३० का संध्या तक 'रोश हशाना' था | हीब्रू शब्दों का मतलब 'साल का सिर' या 'नया साल' है | 'रोश हशाना' के लिए यहूदियाँ मंदिर जाते हैं और फिर घर जाकर उत्सव-विषयक खाना परिवार के साथ खाते हैं | परंपरा है कि मीठे नया वर्ष के लिए, सेब और शहद खाएँ |

दस दिन 'रोश हशाना' के बाद 'योम किप्पुर' है | शब्दों का मतलब 'प्रायशिचत का दिन' है | 'योम किप्पुर' को यहूदियाँ दिन भर प्रार्थना करते हैं और उपवास करते हैं | येहूदियाँ उपनी ज़िन्दगी के बारे में सोचते हैं | वे पिछले साल के बारे में सोचते हैं -- बुरे कार्य किए और निर्दय शब्द कहे | फिर वे भगवान से माफ़ी मांगते हैं और ख़ुद को माफ़ करते हैं |

'सिम्ख़्हात टोरह' टोरह का त्यौहार है | 'सिम्ख़्हात' का मतलब 'हर्ष' है और टोरह यहूदियों का बाइबिल है | इस त्यौहार को यहूदियाँ टोरह पढ़ने ख़त्म करते हैं और शुरू भी करते हैं | मंदिर में यहूदियाँ टोरज़ (Torahs) पकड़ते हैं और नाचते हैं | वे टोरह के बारे में गाते हैं | बहुत ख़ुश त्यौहार है |

'सूकोट' फ़सल उत्सव है | 'सूकः' अस्थायी झोपड़ी थी और किसान फ़सल काटने के लिए 'सूकः' में खेत में रहे | 'सूकोट' 'सूकः' का बहुवचन है | 'सूकोट' के लिए यहूदियाँ अपने आँगन में झोपड़ी बनाते हैं और हफ़्ते के लिए झोपड़ी में सोते हैं |

चंद्र - lunar
उत्सव-विषयक - festive
परंपरा - tradition (f)
शहद - honey (m)
प्रायशिचत - atonement
उपवास करना - to fast (abstain from food)
कार्य - act/deed
माफ़ी - forgiveness (f)
पकड़ना - to hold
अस्थायी - temporary
फ़सल काटना - to harvest
बहुवचन - plural
आँगन - yard (m)

1 comment:

Paliakara said...

बहुत ही सुंदर आलेख है. ज्ञान वर्धक. आभार.